Wednesday, 11 September 2013

----भूली -बिसरी यादें .......

एक प्रयास ----------------आज घर गयी तो अचानक ये अनमोल खज़ाना हाथ लगा -----
............................................बहुत से भूले -बिसरे चेहरे है .........
................................................शायद कोई मिल जाए इस अंतरजाल की दुनिया में .......??

2 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज बृहस्पतिवार (12-09-2013) को चर्चा - 1366मे "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    आप सबको गणेशोत्सव की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. सादर आभार मयंक जी :)

    ReplyDelete

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .......
आपके विचार हमारे लिए अनमोल है .............