Friday, 31 May 2013

October 21, 2011,वैज्ञानिकों ने बनाया ‘उड़ने वाला जादुई क़ालीन’

एक प्रयास --------- 

जादुई क़ालीन पर बैठकर देश-दुनिया की सैर करने का सपना 
अब बचपन की यादों से निकलकर हक़ीकत बनने जा रहा है.
प्रिंसटन विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने प्लास्टिक का 
इस्तेमाल कर प्रयोगशाला में उड़ने वाला एक ‘छोटा क़ालीन’ 
बनाने में सफलता हासिल की है.

दस सेंटीमीटर के एक पारदर्शी प्लास्टिक के टुकड़े पर 
किए गए इस प्रयोग में बिजली की तरंगों और हवा 
के ज़ोर का इस्तेमाल किया गया.
इस टुकड़े को जब विद्युत तरंगों और वायु की ऊर्जा 
से धकेला गया तो यह ‘छोटा-क़ालीन’ एक 
सेंटीमीटर प्रति सेकेंड की रफ़्तार से आगे बढ़ने लगा.
वैज्ञानिकों का मानना है

कि इस क़ालीन के पहले प्रारुप में बदलाव और 
सुधारों के ज़रिए इसे एक मीटर प्रति सेकेंड की गति से उड़ने के लायक बनाया जा सकता है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि इस प्रयोग के पूरी तरह सफल होने 
और इस क़ालीन के तैयार होने पर इसे 
मंगल जैसे ग्रहों की ऊबड़-खाबड़ ज़मीन और 
धूलभरे-धुंधले वातावरण में इस्तेमाल किया जा सकता है.

ऐसी जगहों पर आमतौर से अंतरिक्ष यान या 
विमान चल नहीं पाते और ख़राब हो जाते हैं.

17 comments:

  1. कालीन की सार्थक और विज्ञान परक जानकारी
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्योति जी

      Delete
  2. kalpna jagat ko saty sabit karti sundar jankari pradan karti prastuti

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार अज़ीज़ जी

      Delete
  3. इसका मतलब बचपन में सुनी कहानियां अब यथार्थ में बदलने को तैयार है, बडा रोमांच सा महसूस हो रहा है, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
    Replies
    1. राम -राम ताऊ
      लगता है अब इस कालीन पर बैठ कर बच्चों को सुनायेंगे
      कि हम ऐसी ही कहानियाँ दादी -नानी से सुना करते थे ,.........आभारी हूँ

      Delete
  4. arey waah...ye to bade pate ki baat kahi...ab to jadoo jaisa kuch possible hai life mein

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज़रूर , पधारने के लिए आभार

      Delete
  5. रोमांचक व अद्भुत जानकारी साझा करने के लिए आभार......

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अरुण जी

      Delete
  6. रोमांचक व अद्भुत जानकारी साझा करने के लिए आभार......

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर .. आपकी इस रचना के लिंक का प्रसारण सोमवार (03.06.2013)को ब्लॉग प्रसारण पर किया गया है. कृपया पधारें .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ neeraj जी सम्मिलित करने के लिए
      और क्षमा प्रार्थी भी समय पर उपस्थित नहीं हो सकी

      Delete
  8. rochak aur gyanvardhak jaankari ...vaise vaigyanikon ko mangal se pahle bharat me ise test kar lena chahiye ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये बहुत पते की बात कही आपने ............
      आभार कविता जी

      Delete

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .......
आपके विचार हमारे लिए अनमोल है .............