Sunday, 18 August 2013

-मिशन मार्स वन

एक प्रयास ---------मौत बिकती है बोलो खरीदोगे ------?????----मिशन मार्स वन 
अगर इसमें रोमांच , उत्साह और उत्सुकता है तो पागलपन और सनक की भी कोई कमी नहीं !!!!!!...............
एकतरफा यात्रा कीजिये दो करोड़ की कीमत पर .........
दो करोड़ खर्च कीजिये और अपने मित्रों , शुभचिंतकों और परिवार को कह दीजिये 'अलविदा'............हमेशा के लिए !!!!!
आप फिर कभी नहीं मिल सकते उनसे ...........न ही लौट सकेंगे इस दुनिया में वापस ............जान कर भी लोग तैयार है आत्मह्त्या के लिए !!!!!
भारत में बड़े-बड़े पैसे वाले सनकी मौजूद हैं ..............मेरी शुभकामना हर उस आवेदक को .........जो जान जोखिम में डाल उत्सुक है इस यात्रा के लिए ...............आपकी यात्रा शुभ हो ,मंगल मय हो ............ अपने इस निर्णय के लिए आप कभी पश्चाताप के आंसू न बहायें ...............

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (19-08-2013) बहन की गुज़ारिश : चर्चामंच1342 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. दुनियां में पागल इंसानों की कमी थोडी ही है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. बहुत सार्थक प्रस्तुती, आभार

    ReplyDelete

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .......
आपके विचार हमारे लिए अनमोल है .............