Saturday, 21 December 2013

हमारा अपना तेजस ------------------

एक प्रयास ------सुपरसोनिक विमान तेजस 
लंबाई - 13.20 मीटर
ऊंचाई - 4.40 मीटर
विंग एरिया - 38.4 मीटर
भार - 5,680 किलोग्राम
डैने - 8.20 मीटर
लोडेड भार - 9,500 किलोग्राम
गति - 1.8 मेक
ईधन क्षमता - 3,000 लीटर 
[इसके अलावा 800 लीटर के पांच
 टैंक बाहर से जोड़े जा सकते हैं]
रेंज - 3,000 किलोमीटर
अधिकतम भार क्षमता - 13,500 किलोग्राम--
 

तेजस की तेजी
- डीआरडीओ और एचएएल के मुताबिक
 सिंगल सीट वाला तेजस दुनिया का 
सबसे बेहतरीन हल्का लड़ाकू विमान है।
- युद्धक भार ले जाने की क्षमता और रेंज के 
हिसाब से मिग- 21 बीसोन से कई मामलों में बेहतर।
- वायुसेना की ऑपरेशनल जरूरतों के हिसाब से
 सभी एडवांस टेक्नोलॉजी से लैस। 
इसके उन्नत संस्करण मार्क-2 में 
सभी खूबियों का समावेश होगा।
- हथियारों के साथ करीब 13 टन वजनी 
यह विमान दुनिया के सबसे हल्के 
लड़ाकू विमानों में से एक है।
- मौजूदा मार्क-1 विमान एक बार में 400 किलोमीटर 
के दायरे में कर सकेगा ऑपरेशन।
-विमान 1350 किलोमीटर 
प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ने में सक्षम।
- अब तक हो चुके हैं ढाई हजार से 
अधिक उड़ान परीक्षण।
- विमान में अभी लगाई जानी है बियांड 
विजुअल रेंज मिसाइलें और गन।
- एक विमान की कीमत करीब 200 करोड़ रुपये।
विकास की दास्तान
1983 - रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन [डीआरडीओ] 
और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड 
[एचएएल] को विकसित करने की स्वीकृति मिली।
1984 - एलसीए का डिजायन 
तैयार करने के लिए सरकार ने 
एयरोनॉटिकल डेवलेपमेंट एजेसी [एडीए] 
नामक नोडल एजेंसी का गठन किया।
1986 - एलसीए कार्यक्त्रम के लिए
 सरकार ने 575 करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत किया।
4 जनवरी 2001 - एलसीए ने पहली सफल उड़ान भरी।
 प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 
इसका नाम एलसीए से बदलकर तेजस रखा।
2006 - पहली बार सुपरसोनिक उड़ान भरी।
22 जनवरी 2009 - 1,000 उड़ानें पूरी की।
26 नवंबर 2009 - दो सीटों वाले [ट्रेनर] 
तेजस ने पहली बार उड़ान भरी।
15 दिसंबर 2009 - वायुसेना और 
नौसेना के लिए सरकार ने लड़ाकू जेट 
बनाने के लिए 8,000 करोड़ रुपये के बजट को स्वीकृत किया।
-भारतीय वायुसेना को स्वदेशी युद्धक 
विमान से लैस करने का सपना अब साकार होने की दहलीज 
पर पहुंच गया है। बेंगलूर स्थित
 हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड
 [एचएएल] परिसर में खड़े 11 तेजस विमान 
तीन दशक से चल रही इस सपने की यात्र की तस्दीक करते हैं। 
लंबे इंतजार और अड़चनों के बाद तैयार हल्के स्वदेशी 
युद्धक विमान तेजस की पहली स्क्वाड्रन पूरी करने के लिए 
हालांकि वायुसेना को अभी 2017 तक इंतजार करना होगा। 
वैसे तो इस विमान को प्रारंभिक संचालन 
मंजूरी 2011 में ही दे दी गई थी। 
लेकिन, वायुसेना की ओर से बदलाव और 
सुधार की दर्जनों शिकायतों के बाद एचएएल व 
रक्षा अनुसंधान एवं शोध संगठन [डीआरडीओ] 
की टीम ने अब इसके डिजाइन को तैयार कर दिया है। -

विमान के लिए अंतिम संचालन मंजूरी दिसंबर,
 2014 में दे दी जानी है। 
अभी विमान को पूरी तरह युद्धक 
क्षमताओं से लैस करने के लिए उसमें बीवीआर 
मिसाइलों समेत कई हथियारों को जोड़ा जाना है।

विमान को तैयार करने वाली एविएशन 
डेवलपमेंट एजेंसी के कार्यक्त्रम निदेशक 
पीएस सुब्रमण्यम बताते हैं कि वायुसेना को सौंपने के लिए
 2014 तक चार और 2016 तक आठ विमान तैयार कर लिए जाएंगे। 
महत्वपूर्ण है कि तेजस को तैयार करने वाला 
एचएएल इसके दुनिया का सबसे हल्का 
लड़ाकू विमान होने का दावा करता है।
हमारे तेजस को हमारी , हमारे भारत वासियों की शुभकामनाएं ..........नाम करे , कमाल करे .........धमाल करे ........

10 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (23-12-13) को "प्राकृतिक उद्देश्य...खामोश गुजारिश" (चर्चा मंच : अंक - 1470) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन जानकारी ... रोचक तथ्य तेजास के बारे में ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार दिगंबर जी

      Delete
  3. बेहतरीन तेजस .. जय हिन्द

    ReplyDelete
    Replies
    1. जय हिन्द मीना जी

      Delete
  4. आपकी इस प्रस्तुति को आज की बुलेटिन बदसूरत बच्चा और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार हर्ष वर्धन जी
      अवश्य लाभ लूंगी आपके ब्लॉग पर आकर

      Delete
  5. Itni saari jankariyan samet kar lana bahut hi sarahneey hai.. Aabhar!!

    ReplyDelete

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .......
आपके विचार हमारे लिए अनमोल है .............