Tuesday, 12 November 2013

समर्थन

एक प्रयास ---------
मेरा पूरा समर्थन मुंबई की 'केम्पाकोला सोसायटी' के उन परिवारों के साथ 
उन लोगो के साथ है जिनके आवासों को बीएमसी ने अवैध करार दिया है .........................
आज तीस साल बाद निर्णय हुआ इतने समय में पीढियां बदल जाती हैं ............!! 
.........जब शहर के आकाओं की नाक के नीचे ये निर्माण चल रहा था तब किसी को सुध नहीं आई .........??
जब पानी और बिजली के कनेक्शन दिए गए तब हरी -हरी चकाचौंध में किसी को नहीं दिखा कि ये गलत है ...............!!

आज सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद तुरंत कार्यवाही करने पहुँच गए .........
.......अगर ये तत्परता और ईमानदारी निर्माण के समय दिखाई होती तो आज इन परिवारों को ये दिन ना देखना पड़ता ................!
अपने लिए ,सुबह से शाम तक इनके संविधान तक में बदलाव हो जाते हैं .......लेकिन तीस साल से किसी ये नहीं सोचा कि हमारे किये की सज़ा ये निर्दोष क्यों भुगते ...????
चलो कुछ बदलाव इस दिशा में भी किया जाए.........अब हमने गलत किया है तो सुधारा भी जाए ............. लेकिन जनता की किसे पड़ी है ...........
बिल्डर और बीएमसी की मिली भगत का खामियाजा आज 102 परिवार भुगतने जा रहे हैं ........
सच बड़ा ही दुखद और निंदनीय ..........!
.....और कडवा सच ये कि आज भी कई जगह ये सब चल रहा होगा ............कई दबंग आज भी इस तरह के निर्माण में व्यस्त होंगे ........लेकिन जिस पर ताकत दिखा सको दिखाओ ...... .....समाज का यही नियम है ............
 — feeling sad.

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार को (13-11-2013) चर्चा मंच 1428 : केवल क्रीडा के लिए, मत करिए आखेट "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. टी.वी पर न्यूज देखा जानकर बहुत दुःख हुआ....

    ReplyDelete
  3. सुबह से मैं भी उदास हूँ ,कितनी बार इस खबर पर चर्चा हुई आज ,कितने मजबूर है हम कि कुछ कर नहीं सकते .......

    ReplyDelete

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .......
आपके विचार हमारे लिए अनमोल है .............