Thursday, 17 April 2014

हद है

एक प्रयास ---------फेस बुक पर कई मित्रों की पोस्ट देखती हूँ आज-कल जो आज़ाद भारत की विदेशी सरकार और लोकतंत्र के राजवंशीय परिवार के अंध समर्थक हैं | 
धर्मनिरपेक्षता के नाम पर एक सम्प्रदाय को खूब वोट बेंक बनाया जा रहा है उनके लिए करना कुछ नहीं बस उनकी भावनाओ को भड़काना है और फिर मरहम लगाना है |
साठ सालों में कुछ नहीं किया अब नौकरी देंगे , ये करेंगे , वो करना चाहते हैं .........!!!!!
मुझे समझ नहीं आता राजवंश के अंध-भक्त लोग सोचने -समझने की शक्ति गँवा बैठे हैं क्या ??
उन्हें कुछ लेना -देना नहीं कि देश रसातल में जा रहा है 
पिछले दस सालों में तो ज़मीन -आकाश , जल - पाताल सब खा गए .........
लेकिन भक्त अभी भी चरणों में झुकने को तैयार हैं , आरती उतारने को तैयार हैं 

1 comment:

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .......
आपके विचार हमारे लिए अनमोल है .............