Friday, 23 May 2014

--ज़िदगी का सार

एक प्रयास ---माँ के हाथ से लड्डू ,माँ से101 रु का शगुन और ढेर सा आशीर्वाद---- '
माँ' यही है भावी प्रधानमंत्री की व्यक्तिगत ज़िदगी का सार 

1 comment:

  1. maa ka ashirwad mila , ab kya rah gya duniya me

    ReplyDelete

आपके आगमन पर आपका स्वागत है .......
आपके विचार हमारे लिए अनमोल है .............